सौभाग्य योजना के तहत हो रहे विद्युतीकरण में अनियमितताओं का ग्रामीणों ने लगाया आरोप

0
161

सीधी मड़वास,,, सौभाग्य योजना के तहत हो रहे विद्युतीकरण में अनियमितताओं का ग्रामीणों ने लगाया आरोप बता दें कि सीधी जिले के मड़वास क्षेत्र के कई गांवों में विद्युतीकरण किया जा रहा है, लेकिन इसमें ठेकेदार द्वारा कई अनियमितताएं बरती जा रही है। आलम यह है कि काम बिना मापदण्ड के गुणवत्ताविहीन किया जा रहा है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि गाड़े गए कई बिजली के पोल की दूरी भी ज्यादा है और गाड़े गए पोल भी हिल रहे हैं जो कि कभी भी धराशाई हो सकते हैं इसके अलावा केबिल भी हवा में झूल रही है। और कुछ केबिल चंद दिनों में ही टूट कर गिरने लगी जोकि कभी भी कोई घटना हो सकती है।

बरती गईं अनियमितताएं …….

मड़वास क्षेत्र के तहत आने वाले क्षेत्र जोड़ौरी पंचायत में सौभाग्य योजना के तहत हर घर में विद्युतीकरण का कार्य किया जा रहा है, लेकिन ठेकेदार द्वारा कार्य मापदण्ड के अनुसार नही किया जा रहा है। इसमें कई अनियमितताएं बरती जा रही है। स्थिति यह है कि ठेकेदार द्वारा पोल खड़े किये जाने व लाइन डालने में निर्धारित मापदण्डो का पालन नही किया जा रहा है। आपको बता दें कि पोल की दूरी दूसरे पोल की दूरी ज्यादा है और केविल भी नीचे झूल रही है। ट्रांसफार्मर फ्यूज चोरी होने के बाद उसमें दूसरा फ्यूज नहीं लगाया गया ट्रांसफार्मर में लकड़ी का फ्युज बना दिया गया जिस दिन लाइन चालू की गई थी उसी दिन तार टूट गया था तार टूटते ही कर्मचारियों को पता चला लेकिन आजकल का समय देते आनाकानी करते रहे।

बरसात के मौसम में बड़ी घटना को दे सकते हैं अंजाम……..

गड्ढा खोदकर पोल खड़ाकर लाइन डाल दी गई, क्षेत्र भर में लगाए गए सौभाग्य योजना के बिजली पोल एवं केबल के घटिया कार्य के चलते कुछ स्थानों पर केविल टूटकर नीचे आने लगे है,। और केविल इतनी खराब लगाई गई है जोकि पांच-छह दिन के अंदर ही खराब हो गई। और टूटकर झूलने लगे पोल की दूरी भी नियम के अनुसार ज्यादा है जिससे केबल नीचे तक हवा में झूलते नजर आ रहे हैं।

ग्रामीणों की सूचना के बाद पहुंचा था बिजली विभाग…….

आपको बता दें कि जैसे ही बिजली के तार फाल्ट हुई वैसे ही ग्रामीणों के द्वारा बिजली विभाग के कर्मचारियों को सूचना दी गई और बिजली विभाग के कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे एवं कई खंभों पर चढ़कर जोड़ने की कोशिश की गई लेकिन केवल इतनी घटिया थी कि उसको छूते ही टूट कर गिरने लगी। विभाग के कर्मचारियों के द्वारा बताया गया कि खराब केविल के चलते लाइन चालू नहीं हो सकती हलांकि मड़वास विद्युत वितरण केंद्र के कनिष्ठ अभियंता द्वारा जब जानकारी दी गई तो ठेकेदार को सूचना देने की बात कही गई थी आज लगभग 10 दिन बीत जाने के बाद भी न तो ठेकेदार पहुंचे और नहीं विभाग के कर्मचारी ही पहुंचना मुनासिब समझे ।

1 फेस कनेक्शन में ग्रामीण असमंजस में……..

सबसे बड़ी दिलचस्प की बात यह है कि सौभाग्य योजना के तहत 3 फेस का भी कनेक्शन दिया जाता है परंतु ठेकेदार एवं विभाग के द्वारा यह बताया गया कि गांव में 1 फेस का स्टीमेट ही बना हुआ है। हालांकि ग्रामीणों के विरोध करने पर दो फेस और एक न्यूटल बनाकर विद्युत की सप्लाई कर दी गई है लेकिन ग्रामीणों में अभी भी कंफ्यूजन है कि सभी जगहों पर 3 फेस का कनेक्शन दिया जाता है लेकिन यहां 1 फेस क्यों दिया गया। सबसे बड़ी बात यह है कि विद्युतीकरण का कार्य किया जा रहा था तो विभागीय अधिकारी जी का निर्माण को देखने पहुंचे थे लेकिन घटिया निर्माण में किसी प्रकार का एक्शन नहीं लिया और ठेकेदार कार्य कर वहां से चले गए।

इन गांवों में हुआ विद्युतीकरण…………

आपको बता दें कि जोडौ़री पंचायत अंतर्गत ग्राम हड़वाड़, पोंड़ी, मौहरिया ,देवरी ,लेंड़ुआ आदि गांवों में विद्युतीकरण किया गया है।

इनका कहना है –

  1. ठेकेदार द्वारा घटिया निर्माण किया गया है जो कि आए दिन समस्या बन रही है ।
    रमाकांत शुक्ला
  2. बिजली लगाते ही तार टूट गया जिससे हम ग्रामीणों को परेशानी हो रही है।
    करुणा शुक्ला
  3. जिस प्रकार इस गांव में घटिया विद्युतीकरण किया गया है जो कि किसी गांव में नहीं हुआ है सुधांशु

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here