सीधी।चक्रवर्ती तूफान ने ढाया कहर सैकड़ों घर हुए क्षतिग्रस्त

0
49


सीधी।देश में आये निसर्ग चक्रवर्ती तूफान का असर गत गुरुवार की शाम को जिले के मझौली जनपद पंचायत के ग्राम  महखोर, टिकरी और भुमका में भी देखने को मिला है। जहां शायं तकरीबन 8 बजे आये इस तूफान ने ऐसी तबाही मचाई की लोगों के कच्चे मकानों के छानी छप्पर उड़ गये। लोगों के घरों में पेड़ गिर गये, पूरे गांव के बिजली के आधा सैकड़ा से ज्यादा खंभे टूट गये। यहां तक की पक्की दीवारें भी ध्वस्त हो गई और मवेशी उड़कर कुयें में चले गये। यह तूफान ने महज पांच मिनट में तकरीबन आधा किलोमीटर की चौड़ाई में निकलते हुए लगभग डेढ़ सैकड़ा से ज्यादा घरों की बस्ती को हिलाकर रख दिया। हमारे मड़वास संवादाता मोहम्मद तौफीक लकी से प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस चक्रवाती तूफान का असर इतना तेज था कि पेड़ों की मोटी डालियां टूटकर काफी दूर तक चली गई है। पूरे गांव के आम, जामुन, कटहल, नीम, बांस आदि के पोधे इस कदर टूटे हैं जैसे किसी ने पौधों को मरोड़ दिया हो। घरों में लगी टीन और सीमेंट की सीटें ऐसी उड़ी की ढूंढें से भी नहीं मिल रही हैं। बातचीत के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि शाम तकरीबन आठ बजे रेलवे लाइन के किनारे से उठी तूफानी हवाएं चारों तरफ घूम रही थीं। ग्रामीणों ने बताया कि सभी लोग एक दूसरे का हाथ पकड़े हुए थे ताकि हवा के झोंके से उड़ न जांय। घरों के ऊपर पेड़ गिर जाने से लोग घर के अन्दर फंस गये। चारों तरफ हाहाकार मच गया और ये तूफान गांव के बीच से आधा किलोमीटर की चौड़ाई में निकलते हुए उत्तर दिशा में भूमका टिकरी तरफ चला गया। और इन गांवों में भी तूफान ने तबाही मचाई है। हालांकि सबसे ज्यादा असर महखोर में ही देखने को मिला है जहां ग्रामीणों का ज्यादा नुकसान हुआ है। भुमका और टिकरी में पहुंचने तक इस तूफान का असर कुछ कम देखने को मिला है। इस तबाही के बीच कहीं से भी किसी के हताहत होने की खबर तो नहीं मिली है किन्तु ग्रामीणों के गृहस्थी सहित मकानों तथा पेड़ पौधों का काफी नुक़सान हुआ है। यहां तक कि रुक-रुककर हो रही बारिश में लोगों को सिर छिपाने की जगह नहीं है। और खाद्यय सामग्री भी दब गई है। घर में खड़े वाहन छतिग्रस्त हो गये हैं। शाम होने के कारण पहले तो लोगों को महज अपना ही नुकसान समझ में आया किन्तु सुबह होते ही पूरे गांव का मंजर देखकर अफरा तफरी मच गई। क्षेत्रान्तर्गत रुक रुककर बारिश का दौर चालू है। जिसके कारण ग्रामीणों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here