बेटी की मौत, परिजनों ने लगाया प्रताडना का आरोप, मामला सीधी जिले के मड़वास चौकी का

0
512

सीधी एक्सप्रेस न्यूज़, सीधी मडवास:-

पुलिस कार्यवाही के इन्तजार मे बेटी की मौत, परिजनों ने लगाया प्रताडना का आरोप, मामला सीधी जिले के मड़वास चौकी का बता दें कि मडवास बजार स्थित एक गुप्ता परिवार की लडकी ससुराल वालों के प्रताडना के कारण छह माह से अवसाद मे थी। और गत मंगलवार को मायके मे ही उसकी मौत हो गई। जबकि लडकी मे परिजन पुलिस कार्यवाही का इन्तजार करते रहे। लेकिन पुलिस भी कोई ठोस कार्यवाही नहीं कर सकी। अन्ततः इलाज नहीं हो पाने के कारण लडकी की मौत हो गई। लडकी के परिजनों द्वारा ससुराल पक्ष के लोगों पर दहेज प्रताडऩा का आरोप लगाया है। घटना के संबध मे परिजनों से मिली जानकारी के मुताबिक रोशनी पिता रामगोपाल गुप्ता उम्र 22 वर्ष निवासी ग्राम पंचायत मडवास की शादी 22 नबंवर 2017. को ग्राम सेमारिया जिला सीधी निवासी दिलीप उर्फ दीपू पिता शंकरलाल गुप्ता उम्र 25 वर्ष के साथ हिन्दू रीति रिवाज से हुई थी। तथा अपनी हैसियत के अनुरूप लडकी के बिदाई के समय दहेज का सामान भी दिया गया था। परिजनों द्वारा बताया गया कि ससुराल पहुंचने पर लडकी के पती सहित सास, ससुर, जेठ, जेठानी दहेज मे सोने की चैन नहीं देने का जिक्र करते हुये लडकी को पागल कहने के साथ साथ घर से निकालने की धमकी देने लगे और लडकी के साथ मारपीट कर प्रताड़ित करनें लगे। बताया कि वापस घर आने पर लडकी ने प्रताडित किये जाने की बात मां सहित परिवार के अन्य लोगों से बताई। लेकिन लडकी को समझाकर फिर से ससुराल भेज दिया गया। किन्तु लडकी को प्रताडित किये जाने का सिलसिला नहीं रुका और आये दिन खाना न देना मारपीट करना आम बात हो गई थी। बताया गया कि कुल तीन बार लडकी ससुराल गई थी। पिता ने बताया की प्रताडऩा के कारण लडकी की तबियत खराब हो गई तब 12 फरवरी 2019 को लडकी के ससुर शंकर लाल गुप्ता अपने छोटे भाई के साथ आये और बोले अपनी लडकी को रख लो और लडकी को मेरे घर मे छोडकर चले गये। इसके बाद चार माह बीत गये लेकिन न तो कोई बुलाने आया न ससुराल पक्ष के लोगों द्वारा कोई खोज खबर लेना उचित समझा गया। जिसके कारण हमारी बेटी अवसाद मे रहने लगी। बताया गया कि लडकी के हालत को देखकर परिवार सहित पुलिस चौकी सेमारिया पहुंच कर रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी। जिस पर पुलिस द्वारा धारा 498 ए, 34 आईपीसी, 3/4 दहेज एक्ट कायम करते हुये प्रकरण पंजीबद्घ किया गया था। किन्तु सेमारिया पुलिस के द्वारा आरोपियों के खिलाफ कोई ठोस कार्यवाही नहीं की गई। लडकी के पिता ने बताया कि बेटी की हालत दिनों दिन बिगडती गई हैसियत के हिसाब से इलाज भी करवाया गया लेकिन लडकी मौत के मुंह से नहीं बच सकी और मंगलवार को तकरीबन 11 बजे उसकी मौत हो गई। तत्पश्चात पुलिस अधीक्षक सीधी के निर्देश के बाद पुलिस चौकी मडवास मे प्रकरण दर्ज किया गया और शव को पोस्टमार्टम के लिये मझौली मर्चुरी ले जाया गया। जहां परिक्षण के बाद शव ससुराल पक्ष के लोगों को सौंप दिया गया है। लडकी के परिजनों द्वारा आरोपियों सहित पुलिस की लापरवाही की जांच कर कार्यवाही की मांग की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here